latest hindi shayari for whatsapp

वो तिरंगे वाली प्रोफाइल फोटो हो तो लगा लो जरा !
सुना है देशभक्ति दिखाने वाली तारीख आ रही है !!

बहुत शौक था हमें सबको जोडकर रखने का !
होश तब आया जब खुद के वजूद के टुकडे देखे !!

चेहरा बता रहा था कि मारा है भूख ने !
और लोग कह रहे थे कुछ खा के मर गया !!

दिल से पूछो तो आज भी तुम मेरे ही हो !
ये ओर बात है कि किस्मत दग़ा कर गयी। !!

प्रेम लोग संकोच से दबे एहसास से करते हैं !
और नफ़रतें ग़ुरूर के साथ सिद्दत से निभाते हैं !!

Dard garib ka shayad badta hi jaega

Dard garib ka shayad badta hi jaega |
Kisko fikar hai ki garib kya khaega ||

दर्द गरीब का शायद बढता ही जाएगा |
किसको फिक्र है कि गरीब क्या खाएगा ||

Gash kha jata hai jo aate ka bhav sunkar |
zara bataiye kese dal ke bhav puch paega ||

गश खा जाता है जो आटे का भाव सुनकर |
जरा बताइये कैसे दाल के भाव पूछ पाएगा ||

Kab tak dega khud ko jhuth dilase |
Sachai se muh kab tak chupaega ||

कब तक देगा खुद को झूठे दिलासे |
सच्चाई से मुंह कब तक छुपाएगा ||

Also Read shayari for Maa : Maa tere dhood ka hak muhse ada kya hoga

Dard garib ka shayad badta hi jaega |
Kisko fikar hai ki garib kya khaega ||

दर्द गरीब का शायद बढता ही जाएगा |
किसको फिक्र है कि गरीब क्या खाएगा ||

Raat guzar jati hai eshi utha patak me |
subh ubalte pani me wo kya milaega ||

रात गुजर जाती है इसी ऊह पोह में |
सुबह उबलते पानी में वो क्या मिलाएगा ||

Bhukh se bilakte bache jab khana mangege |
Aaj fir wo unhe jhuthe aaswasan khilaega ||

भूख से बिलखते बच्चे जब खाना मांगेंगे |
आज फिर वो उन्हे झूठे आश्वासन खिलाएगा ||

Vidambna dekhiye , uss bebas garib ki |
pathron se takrane wala roti se har jaega ||

विडम्बना देखिए, उस बेबस गरीब की |
पत्थरों से टकराने वाला रोटी से हार जाएगा

Dard garib ka shayad badta hi jaega |
Kisko fikar hai ki garib kya khaega ||

Latest shayari on Facebook Page

दर्द गरीब का शायद बढता ही जाएगा |
किसको फिक्र है कि गरीब क्या खाएगा ||

Aaj fir se ek ajnabi shhr dekha

Aaj fir se ek ajnabi shhr dekha …

Aaj fir se ek ajnabi shhr dekha !
kabhi rashan ki dukano me naam tha !!
aaj fir se  katte dekha !
Aaj fir se ek ajnabi shhr dekha !!
kabhi daman daman khilte dekha !
kabhi galiyon raston se milte dekha !!
aaj fir se wahi aangan bicharte dekha !
Aaj fir se ek ajnabi shhr dekha !!

kuch darmiyan jindagi badte dekha !
dost kehte the aaj behre dekha ,
hath riston ke kache pakke dekha !!
fir se khud ko ek tarfa akela dekha !
Aaj fir se ek ajnabi shhr dekha !!

humne iss shhr ko ek umar mana !
thode hi sahi jameen par jmana mana !!
aaj jmane ne mujhko hi pardesi jana ,
fir se khud ko musfir bante dekha !
Aaj fir se ek ajnabi shhr dekha !!

kitne aasun ke seele milte hain,
kitne gam ke bhane jalte hai !
mera dard mujhko hi mujrim jana !!
maine khud ko fir se piche chutte dekha !
Aaj fir se ek ajnabi shhr dekha !!

koi sitaron se kaise lad paye ,
dil par lakeere kya mita paye !
aaj dil ko hi rang badlte dekha !!
kismat ko khud par rote dekha !
Aaj fir se ek ajnabi shhr dekha !!

Also See : Aaj Hakikat hai to kal koi khwab Sajega | ek or gazal adhura jaam ho jaye

आज फिर से एक अजनबी शहर देखा

आज फिर से एक अजनबी शहर देखा
कभी राशन के दुकानों मे नाम था
आज फिर से कट ते देखा।
आज फिर से एक अजनबी शहर देखा…….
कभी दामन दामन खिलते देखा
कभी गलियां रस्ते से मिलते देखा
आज फिर से वही आंगन बिछरते देखा।
आज फिर से एक अजनबी शहर देखा…….

कुछ दरमियां जिंदगी बढ़ते देखा
दोस्त कहते थे आज बहरे देखा
हाथ रिश्तो के कच्चे पक्के देखा
फिरसे खुदको एकतरफ़ अकेला देख़ा।
आज फिर से एक अजनबी शहर देखा…….

हमने इस शहर को एक उम्र माना
थोड़े ही सही जमीं पर जमाना जाना
आज ज़माने ने मुझको हि परदेशी जाना
फिर से खुदको मुसाफ़िर बनते देखा।
आज फिर से एक अजनबी शहर देखा…….

कितने आंसू के सिले मिलतें है
कितनी ग़म के बहाने जलते है
मेरा दर्द मुझको ही मुज़रिम माना
मैने फिर से खुदको पीछे छूटते देख़ा।
आज फिर से एक अजनबी शहर देखा…….

कोई सितारों से कैसे लड़ पाये
दिल पे लकीरें क्या मिटा पायेँ
आज दिल को ही रंग बदल ते देख़ा
किस्मत को खुदपे रोते देखा।
आज फिर से एक अजनबी शहर देखा…….

आज फिर से एक अजनबी शहर देखा
कभी राशन के दुकानों मे नाम था
आज फिर से कट ते देखा।
आज फिर से एक अजनबी शहर देखा

Also See  : tere ishk me mera wajood mit sa gaya hai
Facebook page | Google Page

दर्द भरी हिंदी शायरी

बहुत देर करदी तुमने मेरी धडकनें महसूस करने में..!
वो दिल नीलाम हो गया, जिस पर कभी हकुमत तुम्हारी थी..!

कुछ तुम्हारी उलझनें, कुछ हमारी कश्मकश…
बस यूँ ही
एक खूबसूरत कहानी को खत्म कर दिया हमने

उलझती है वो हर एक बात पर अब बेसबब मुझ से
कभी जो मेरे कहने पर सुबह को शाम लिखती थी

यूँ तो ए ज़िन्दगी तेरे सफर से शिकायते बहुत थी..
मगर दर्द जब दर्ज कराने पहुँचे तो कतारे बहुत थी…!!!

Jab bhi teri yaad mein hindi shayari

Jab bhi teri yaad mein mera ye dil rota hai |
uss raat fir chand bhi to nahi sota hai ||

जब भी तेरी याद में मेरा ये दिल रोता है
उस रात फिर चाँद भी तो नहीं सोता है,

Udas ho jate hain aasman ke sitare bhi |
aisa mere sath aksar har raat hota hai ||

उदास हो जाते हैं आसमां के सितारे भी,
ऐसा मेरे साथ अक्सर हर रात होता है,

Baras padti hai fir badlon ki ankhe bhi |
kya mera bhiga wajood tumhe bhi bhigota hai ||

बरस पड़ती हैं फिर बादलों की आँखें भी,
क्या मेरा भीगा वजूद तुम्हें भी भिगोता है?

puchna tumhe chukar aane wali hawon se ki |
inki khushboo me man mera kyon khota hai ||

पूछना तुम्हें छूकर आने वाली हवाओं से, कि
इनकी खुशबू में मन मेरा क्यों खोता ह

par khwabon mein bhi tumhe main yaad nahi shayad |
isiliye to dil mera har waqt rota hai ||

पर ख्वाबों में भी तुम्हें मैं याद नहीं शायद,
इसलिए तो दिल मेरा हर वक़्त रोता है